• X

    इतने साल पुराना है मालपुए का इतिहास

    भारतीय खान-पान सदियों से अपने स्वाद में विभिन्न्ता के लिए जाना जाता है. इन्हीं में से एक है मालपुआ. मालपुए का नाम तो आपने सुना ही होगा, पर क्या आप जानते हैं इसका इतिहास? मालपुआ सबसे पुरानी भारतीय मिठाई है. यह न केवल भारत में बल्कि बांग्लादेश, नेपाल (मरपा) और पाकिस्तान में भी बहुत फेमस है.

    मालपुआ एक तरह का पैन केक है जिसे मैदे से बनाया जाता है. इसे देसी घी में तलकर, चाशनी में डूबोकर निकाला जाता है. भारत में इसे ड्राई-फ्रूट्स से गार्निश कर या ऊपर रबड़ी डालकर ही सर्व किया जाता है.

    बता दें कि सबसे पहले रिग वेद में मालपुए का जिक्र 'अपुपा' के नाम से किया गया था. तब इसे जौ से बनाया जाता था. देसी घी में तलकर और फिर शहद में डूबोकर इसे परोसा जाता था.


    इसके बाद-धीरे-धीरे 2 BC में इसे आटा से बनाया जाने लगा. आटे में दूध, मक्खन, चीनी, इलायची, काली मिर्च और अदरक मिक्स कर इसे बनाया जाता था.

    2 BC में ही यह 'पुपालिके' के नाम से एक बार फिर सामने आया. तब इसमें गुड़ की स्ट्फिंग भरी जाने लगी. इसे 'स्ट्फ्ड अपुपा' भी कहा जाने लगा.


    इन सबके बाद पाकिस्तान में इसे अंडे से बनाना शुरु हुआ. वहां इस डिश को ' मालपुआ विद एग एंड मावा' के का रूप मिला. पाकिस्तान में इसे हर खास त्योहार पर बनाने की शुरुआत हो गई.

    इतने सब बदलाव के बाद आज यह मालपुए के नाम से पूरे भरत में मशहूर है. आज इसे होली, दिवाली सभी त्योहारो पर खूब बनाया जाता है. भारत के हर कोने में इसे बनाने की अपनी अलग-अलग विधि है, पर स्वाद इसका एक ही है.
    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए