• X

    दूध में मिलावट की पहचान करने के सटीक तरीके

    हाल में ही एक रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि दूध की खपत जितनी होती है उत्पादन उससे बहुत कम होता है. इससे एक आशंका पैदा होती है कि फिर दूध की आपूर्ति कैसे होती है. क्या नकली और मिलावटी दूध से इस मांग को पूरा किया जा रहा है?

    एनीमल वेलफेयर बोर्ड के सदस्य मोहन सिंह अहलूवालिया की मानें तो देश के दक्षिणी राज्यों के मुकाबले उत्तरी राज्यों में दूध में मिलावट ज्यादा होती है. इस मामले में आई एक रिपोर्ट कमोबेश इसी ओर इशारा करती है. दूध में मिलावट को लेकर कुछ साल पहले देश में एक सर्वे हुआ था. इसमें भी पाया गया कि दूध को पैक करते वक्त साफ-सफाई का ध्यान नहीं रखा जाता है. दूध में डिटर्जेंट की सीधे तौर पर मिलावट पाई गई थी. अहलूवालिया के मुताबिक, यह मिलावट सीधे तौर पर लोगों की सेहत को खतरा पहुंचा सकती है. मिलावटी दूध पीने वाले लोगों में अपंगता जैसी गंभीर बीमारी हो सकती है.

    साइंस एंड टेक्नोलॉजी मिनिस्ट्री के एक बयान का हवाला देते हुए अहलूवालिया ने कहा कि मिलावट वाले करीब 89 फीसदी प्रोडक्ट में एक या दो तरह की मिलावट होती है. इतना ही नहीं 31 मार्च 2018 देश में दूध का कुल उत्पादन 14.68 करोड़ लीटर रोजाना रिकॉर्ड किया गया, जबकि देश में दूध की प्रति व्यक्ति खपत 480 ग्राम प्रति दिन ठहरती है. सीधे तौर पर यह गैप करीब 68 फीसदी का ठहरता है. इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि बाजार में ज्यादातर मिलावटी दूध आता है.

    ये तो हमने यह बताया कि दूध में मिलावट होती है. इसी वजह से मांग और उत्पादन में अंतर होता है. लेकिन हम यहां बता रहे हैं मिलावटी दूध को कैसे पहचान सकते हैं.

    - सिंथेटिक दूध की पहचान करने के लिए उसे सूंघें. अगर साबुन जैसी गंध आ रही है तो इसका मतलब है कि दूध सिंथेटिक है जबकि असली दूध में कुछ खास गंध नहीं आती.

    - असली दूध का स्वाद हल्का मीठा होता है, जबकि नकली दूध का स्वाद डिटर्जेंट और सोडा मिला होने की वजह से कड़वा लगता है.

    - असली दूध स्टोर करने पर अपना रंग नहीं बदलता, जबकि नकली दूध कुछ वक्त के बाद पीला पड़ने लगता है. दूध में पानी के मिलावट की पहचान के लिए दूध को एक काली सतह पर छोड़ें. अगर दूध के पीछे एक सफेद लकीर छूटे तो दूध असली है.

    - अगर असली दूध को उबालें तो इसका रंग नहीं बदलता, वहीं नकली दूध उबालने पर पीले रंग का हो जाता है.

    - दूध में पानी की मिलावट की जांच करने के लिए किसी चिकनी लकड़ी या पत्थर की सतह पर दूध की एक या दो बूंद टपकाकर देखें. अगर दूध बहता हुआ नीचे की तरफ गिरे और सफेद धार सा निशान बन जाए तो दूध शुद्ध है.

    - असली दूध को हाथों के बीच रगड़ने पर कोई चिकनाहट महसूस नहीं होती. वहीं, नकली दूध को अगर आप अपने हाथों के बीच रगड़ेंगे तो आपको डिटर्जेंट जैसी चिकनाहट महसूस होगी.

     

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए