• X

    मां चंद्रघंटा को इन चीजों का भोग लगाकर करें प्रसन्न

    नवरात्रि के दूसरे दिन मां चन्द्रघंटा की पूजा की जाती है. मां दुर्गा के इस अवतार के माथे पर आधा चंद्रमा बना होता है. मां चंद्रघंटा को दूध और उससे बनी चीजें जैसे खीर का भोग लगाया जाता है और इसी का दान भी किया जाता है. ऐसा करने से मां खुश होती हैं और भक्तों के दुखों का नाश करती हैं.

    मां चन्द्रघंटा को दूध से बनी चीजें जैसे चावल की खीर, मखाने की खीर, रबड़ी, दूध के पेड़े आदि का भोग लगाएं. मां को सफेद चीजों का भोग लगाया जाता है तो कोशिश करें कि दूसरे दिन की व्रत की थाली में सफेद चीजों से बने पकवान का प्रसाद चढ़ाएं.

    क्या होता है सात्विक भोजन, क्यों व्रत में इसे खाया जाता है?

    चंद्रघंटा देवी की पूजा करने से गुरु के कष्टों से भी आराम मिलता है. धन की कमी दूर होती है. संतान और पति सुखी होंगे और चंद्रमा कुंडली में बलवान होता है. मन में शान्ति आएगी. चन्द्रमा स्वाति नक्षत्र और तुला राशि में है. तुला राशि से गुरु भी मित्र राशि वृश्चिक में जा रहे हैं. चंद्र और गुरु दोनों मिलकर सुबह राज योग बना रहे हैं. मां दुर्गा इस राज योग में नौकरी ,व्यापार और अच्छी धन की वर्षा का वरदान देंगी. माता को सफेद फूल, चंदन सफेद चुन्नी चढ़ाकर और बर्फी का भोग लगाएं.

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए