• X

    आ गया मानसून, थाली से गायब कर दीजिए इन चीजों को

    बारिश होने से गर्मी से राहत तो मिल जाती है, लेकिन यह मौसम अपने साथ बहुत सारी बीमारियां भी लेकर आता है. इसलिए जरूरत होती है इस मौसम में नपा-तुला खाने की. वहीं हल्की-फुल्की बारिश में लोग भींगना पसंद करते हैं. बाद में गर्म पानी से नहा लेते हैं जिससे भी तबीयत खराब होने का खतरा बढ़ जाता है.

    बारिश के साथ ही तला-गला खाने की क्रेविंग बढ़ जाती है. जिसे मिटाने के लिए हम आप अक्सर रोड साइड की दुकानों पर पसंदीदा चीजें खाना पसंद करते हैं. जबकि बरसात के मौसम में खान पान को लेकर लापवाही नहीं करनी चाहिए क्योंकि ऐसा करने से पेट खराब हो सकता है. इस मौसम में पानी में पैदा हुआ बैक्टीरिया काफी सक्रिय होता है जोकि रोड साइड चीजें खाने से हमारे पेट में पहुंच जाते हैं. बाद में ये बदहजमी के कारण बनते हैं. इसलिए जरूरत है संभलने की. हम यहां बता रहे हैं कि मानसून में कैसा खान-पान अपनाना चाहिए ताकि हेल्दी रह सकें.

    फल खाना सेहत के लिए अच्छा माना जाता है, लेकिन बारिश के मौसम में कुछ फलों को अलविदा कहने में भी भलाई है. इन फलों में तरबूज, खरबूजा और आम शामिल हैं. ऐसा माना जाता है कि इन फलों को खाने से चेहरे पर मुहांसे और दाने आने लगते हैं. बेहतर स्वास्थ्य और स्किन के लिए सेब, नाशपती, अनार जैसे फलों का सेवन करना फायदा पहुंचा सकता है.

    - बारिश में रोड साइड लगी दुकानों से कुछ भी न लेकर खाएं, क्योंकि इसके कारण आपको इन्फेक्शन हो सकता है. अलग खाना ही चाहते हैं तो पहले यह देख लें कि उस दुकान पर साफ-सफाई है भी या नहीं. साथ ही बना खाना हाइजीनफ्री हो.

    - बच्चों को बारिश के दौरान भरे पानी में खेलने से रोकें. अगर वे पानी में भींग गए हैं तो ठंडा पदार्थ देने से बेहतर होगा गर्म दूध में हल्दी डालकर दें. इससे उन्हें सर्दी, जुकाम नहीं होगी. खुद भी और बच्चों को भी गरम चीजें खाने के लिए दें. दूध को अच्छी तरह उबालना भी जरूरी है.

    - बरसात के दिनों में हर्बल चाय का सेवन करना फायदा पहुंचा सकता है. हर्बल चाय में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने वाले तत्व पाए जाते हैं.

    - बारिश में पकौड़े, समोसे, कचौड़ी खाने का खूब मन करता है, लेकिन इन चीजों का ज्यादा मात्रा में सेवन आपको बीमार कर सकता है. साथ पेट और स्किन की एलर्जी या दाने भी हो सकते हैं. इनकी जगह आप भून हुए खाने को प्रिफर करें.

    - बारिश के दौरान प्याज और अदरक का सेवन ज्यादा करना चाहिए. भोजन में रेशेदार फलों को शामिल करना फायदेमंद हो सकता है. नींबू में विटामिन सी मिलता है इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. वहीं पुदीना पाचन तंत्र को मजबूत करता है. इसकी चटनी या फिर सलाद में खा सकते हैं. बारिश के मौसम में पीने के पानी का खास ध्यान देना चाहिए. कोशिश करें कि उबला हुआ पानी ठंडा कर पीएं. कच्ची हरी सब्जियों के सेवन से बचें. क्योंकि इनमें फंगस और बैक्टीरिया सबसे ज्यादा पनपते हैं.

     

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए