• X

    खाने का शौकीन था हिटलर, तभी तो ये 14 सुंदरियां पहले...

    सबसे क्रूर तानाशाह के नाम से मशहूर एडोल्फ हिटलर का जन्म 20 अप्रैल 1889 में हुआ था. हिटलर को दूसरे विश्व युद्ध के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार माना जाता है, लेकिन वह जितना तानाशाह दिखता था उससे कहीं ज्यादा डरपोक भी था. पूरी दुनिया में अपना खौफ पैदा करने वाला जर्मनी का यह क्रूर तानाशाह को हमेशा खाने के हर एक निवाले में अपनी मौत नजर आती थी.
    हिटलर को शक था कि उन्हें खाने में जहर देकर मरवा दिया जाएगा. इसी डर से वह फूड टेस्टरों को नियुक्त किया था. जिनकी नजर हिटलर के खाने के हर निवाले पर होती थी. हालांकि ये फूड टेस्टर न चाहते हुए भी हिटलर का खाना चखती थीं. ये फूड टेस्टर रोज तिल-तिल मरते थे ताकि हिटलर जिंदा रह सके.

    हिटलर ने खाना टेस्ट करने के लिए 14 लड़कियां रखी थीं. ये 14 लड़कियां हर दिन एक से एक लजीज खाना खाती थीं, लेकिन उन्हें भी हर निवाले को निगलने के बाद नई जिंदगी मिलने की खुशी कम और अगले पहर मौत दिखती थी. हिटलर शाकाहारी था इसलिए प्लेट में फल, बंदगोभी, व्हाइट एस्पेरेगस और पिपर्स होते थे.

    जब हिटलर के लिए बना हुआ खाना चखकर ये लड़कियां बीमार नहीं पड़ती थीं, तब खाने को अलग-अलग डिब्बों में पैक कर नॉर्थ-ईस्ट पोलैंड में स्थित जर्मन सेना के मुख्यालय वोल्फ लेयर में रह रहे हिटलर के लिए भेजा जाता था.

    हालांकि इंग्लैड, हिटलर को जहर देकर मारना चाहता था, लेकिन जासूसों से हिटलर को इस बात का पता लगा गया था जिसके बाद उसने खाना चखने के लिए लड़कियों को नियुक्त किया था.

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए