• X

    बची हुई चायपत्ती से आसान हो सकते हैं किचन के ये काम

    अमूनन सभी लोग चाय बनाने के बाद चायपत्ती को कूड़ा समझकर फेंक देते हैं. पर क्या आप जानते हैं इस इस्तेमाल हुई चायपत्ती को आप फिर से उपयोग लाया जा सकता है. इसमें कई गुण छिपे होते हैं, जो शरीर के लिए काफी फायदेमंद हैं. वहीं कई ऐसे काम भी हैं जो बची हुई चायपत्ती से आसान हो सकते हैं. यहां जानिए चाय बनाने के बाद बची हुई चायपत्ती का बेहतरीन इस्तेमाल.

    टिप्‍स

    - चायपत्ती से एक बार चाय बनाने के बाद आप इसे सुखाकर दोबारा भी इस्तेमाल में ला सकते हैं. इसकी चाय भी स्वाद वाली बनेगी. लेकिन इस बात का ध्यान रख लें कि चायपत्ती को धूप में सुखाकर ही दोबारा उपयोग करें.
    (अजवाइन के ऐसे फायदे इससे पहले किसी ने आपको नहीं बताए होंगे )
    - आप चायपत्ती का इस्तेमाल छोले को स्वादिष्ट बनाने में भी कर सकते है. इसके लिए चायपत्ती को पानी में डाल लें और उस पानी को उबाल कर उसकी थोड़ी-सी मात्रा काबुली चने में डाल दें. इससे छोले का रंग आकर्षित दिखेगा और खुशबू व स्वाद भी अच्छा आएगा.
    खस्ता ठेकुआ बनाने के लिए ये टिप्स बेहद काम आएंगे
    )
    - चायपत्ती/ टी-बैग को गुनगुने पानी में निचोड़ लें. इस पानी का कुल्ला करने से दांत दर्द में राहत मिलती है.
    - इसके इलावा चायपत्ती के उबले हुए पानी से घी या तेल के डिब्बे साफ करने से उन डिब्बों की दुर्गंध भी जाती रहेगी और डिब्बे अच्छी तरह से साफ भी हो जाएंगे.
    (इस तरह भूनें बैंगन, बढ़ जाएगा भर्ता का स्वाद )
    - किचन में या घर के जिस कोने में बहुत ज्यादा मक्खियां हों वहां पर बची हुई चायपत्ती को धोकर साफ कर लें फिर इसे उस जगह पर रगड़ दें.
    - बची चायपत्ती का इस्तेमाल बालों में चमक और दमक लाने के लिए कर सकते हैं, ये बहुत फायदेमंद होती है. चायपत्ती का पानी एक तरह से प्राकृतिक कंडिशनर का काम करता है. चाय बनाने के बाद बची हुई पति को धो लें, फिर उसे दुबारा से गरम पानी में उबाल लें. इसे छान लें और पानी को ठंडा करने के बाद बालों को साफ करें. 
    (किशमिश के पानी के ये फायदे आपको चौंका देंगे )
    - चायपत्ती का एक और फायदा यह है कि आप इसका इस्तेमाल लकड़ी के फर्नीचर को चमकदार बनाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं. चाय बची हुई चायपत्ती को दोबारा से गरम पानी मे उबाल ले फिर उसे ठंडा कर इसे एक स्प्रे बॉटल में भरकर फर्नीचर की सफाई करें. इससे फर्नीचर चमक उठेंगे.
    (एलर्जी को जड़ से खत्म कर देंगी ये चीजें )
    - चायपत्ती का इस्तेमाल खाद के रूप में किया जाता है. गमले में पौधों को समय-समय पर खाद की जरूरत होती है. ऐसे में आप बची हुई चायपत्ती को साफ कर लें और गमले में डाल दें. इससे पौधे स्वस्थ रहेंगे.
    - चायपत्ती में एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं. चोट या किसी जख्म पर चायपत्ती का लेप लगाने से खून बहना बंद हो जाता है. उबली हुई चायपत्ती को अच्छी तरह धो लें और इसे पीसकर चोट पर लगाने से घाव जल्दी भर जाएगा.
    (नींबू का छिलका भी है बड़े काम की चीज )
    - बची चाय की पत्ती में थोड़ा-सा विम पाउडर मिलाकर क्राकरी साफ करें. उसमें चमक आ जाएगी.

    Tags- What to do with leftover tea leaves?, Re-Use of chaipatti, leftover tea, chaipatti,
    क्या ये टिप्स आपके लिए उपयोगी हैं?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें
    टैग्स

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए