• X

    देवउठनी एकादशी: शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और प्रसाद का महत्व

    इस साल 8 नवंबर को कार्तिक शुक्ल एकादशी के दिन देवउठनी एकादशी है. इसे देवोत्थान या देवप्रबोधनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है. कई लोग इस दिन को तुलसी विवाह के नाम से भी जानते हैं.

    विधि

    इस साल 8 नवंबर को कार्तिक शुक्ल एकादशी के दिन देवउठनी एकादशी है. इसे देवोत्थान या देवप्रबोधनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है. कई लोग इस दिन को तुलसी विवाह के नाम से भी जानते हैं.

    जानिए क्यों मनाई जाती है यह एकादशी
    मान्यताओं के अनुसार इस दिन क्षीरसागर में सोए हुए भगवान विष्णु चार माह के शयन के बाद जागते हैं और इसीलिए इस दिन विष्णु जी की गई पूजा का बहुत महत्व है. सभी देवों ने भगवान विष्णु को चार मास की योग-निद्रा से जगाने के लिए घण्टा, शंख, मृदंग आदि वाद्यों की मांगलिक ध्वनि के साथ श्लोकों का उच्चारण किया था. इस दिन के बाद शादी-विवाह के शुभ मुहूर्त शुरू हो जाते हैं. यानी इस दिन के बाद मांगलिक कार्य शुरू हो जाते हैं.

    ऐसे करें पूजा
    इस दिन घर और मंदिर में गन्ने का मंडप बनाएं और उसमें लक्ष्मीनारायण (शालिग्राम) की पूजा अर्चना करें. घर में कलश स्थापित कर उसकी पूजा की जाती है. पूजा के बाद कलश के पानी को घर और किचन में छिड़कें. भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी के साथ इस दिन तुलसी जी का शालिग्राम जी से विवाह भी कराया जाता है. ऐसा करने से व्यक्ति का दांपत्य जीवन सुखमय बीतता है. तुलसी जी को चुनरी चढ़ाकर शृंगार का समान अर्पित किया जाता है.

    प्रसाद में रखें ये खास चीजें
    लक्ष्मीनारायण जी को इस दिन, आंवला, सिंघाड़े और मौसमी फलों का भोग लगाया जाता है. फलों के अलावा इस दिन कुछ सब्जियां जैसे मूली, बैंगन, खीरा आदि का भोग भी लगाया जाता है क्योंकि एकादशी के व्रत में चौबीस घंटे का व्रत रखा जाता है इसलिए व्रती इस दिन दिनभर निराहार रहकर रात में जाकर केवल फलाहार, दूध या जूस लेते हैं. कहते हैं इस व्रत को करने वाले को दिव्य फल प्राप्त होता है. इसके अलावा क्योंकि मखाना अनाज नहीं होता इसलिए पकवानों में मखाने की खीर बनाकर भोग में लागई जा सकती है.

    देवउठनी एकादशी तिथि और शुभ मुहूर्त
    देवउठनी एकादशी की तिथि: 8 नवंबर 2019
    एकादशी तिथि आरंभ: 07 नवंबर 2019 की सुबह 09 बजकर 55 मिनट से
    एकादशी तिथि समाप्त: 08 नवंबर 2019 को दोपहर 12 बजकर 24 मिनट तक

    नोट: अगर आप किसी कारण वश दिनभर निराहार नहीं रह सकते हैं तो दूध या फल का आहार बेझिझक ले सकते हैं.

    क्‍या ये रेसिपी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें
    टैग्स

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए