• X

    देवउठनी एकादशी: व्रत न रखने वाले भूलकर न करें ये काम

    आज यानी 8 नवंबर को देवउठनी एकादशी है. इसे देवोत्थान एकादशी या देवप्रबोधनी एकादशी या तुलसी विवाह के नाम से भी जाना जाता है. इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान कर विष्णु जी की पूजा अर्चना की जाती है और फिर विधिवत तुलसी विवाह करना शुभ माना जाता है. साथ ही खान-पान से जुड़ी कई बातों का ध्यान रखना भी बेहद जरूरी होता है. ऐसा माना जाता है कि इस व्रत के पालन में भूलकर भी ऐसी गलतियां नहीं करनी चाहिए.

    विधि

    आज यानी 8 नवंबर को देवउठनी एकादशी है. इसे देवोत्थान एकादशी या देवप्रबोधनी एकादशी या तुलसी विवाह के नाम से भी जाना जाता है. इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान कर विष्णु जी की पूजा अर्चना की जाती है और फिर विधिवत तुलसी विवाह करना शुभ माना जाता है. साथ ही खान-पान से जुड़ी कई बातों का ध्यान रखना भी बेहद जरूरी होता है. ऐसा माना जाता है कि इस व्रत के पालन में भूलकर भी ऐसी गलतियां नहीं करनी चाहिए.

    - व्रतियों को निर्जला या केवल जलीय पदार्थों पर ही उपवास रखना चाहिए.
    - देवउठनी एकादशी के दिन मांसाहार का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए.
    - कहते हैं कि जिन्होंने व्रत न भी रखा हो उन्हें भी आज के दिन प्याज, लहसुन, मांस, मछ्ली और अंडे के सेवन से दूर रहना चाहिए.
    - एकादशी के दिन चावल और इससे बनी चीजों के न खाने की मान्यता है. मान्यताओं के अनुसार जो इस दिन चावल का सेवन करते हैं वे अगले जन्म में रेंगनेवाले जीव के रूप में जन्म लेते हैं.
    - शराब पीने से सख्त परहेज करना चाहिए.
    - अगर रोगी, वृद्ध, बालक या व्यस्त व्यक्ति हैं तो केवल एक समय का उपवास रखना चाहिए और फलाहार करना चाहिए.
    - एकादशी के दिन चुगली, झूठ, गुस्से से दूर रहना चाहिए.
    - इनके अलावा मन को शांत रख झगड़ों से भी दूर रहना चाहिए.

    कब तक है देव उठनी एकादशी का शुभ मुहूर्त
    देवउठनी एकादशी की तिथि: 8 नवंबर 2019
    एकादशी तिथि आरंभ: 07 नवंबर 2019 की सुबह 09 बजकर 55 मिनट से
    एकादशी तिथि समाप्त: 08 नवंबर 2019 को दोपहर 12 बजकर 24 मिनट तक
    क्‍या ये रेसिपी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें
    टैग्स

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए