• X

    आलू को लेकर रिसर्च में बहुत बड़ा दावा सामने आया है

    आलू का सब्जियों का राजा कहा जाता है. इसीलिए इसे किसी भी दूसरी सब्जी में डालकर बनाने से उसमें आलू के स्वाद की प्राथमिकता रहती है. आलू में बहुत ज्यादा मात्रा में कार्बोहाइड्रेट होता है. इसी कारण ऐसा कहा जाता है कि आलू खाने से वजन तेजी से बढ़ता है. जबकि यह थ्योरी पूरी तरह से सही नहीं है. दरअसल, आलू खाने से नहीं बल्कि इसे गलत तरीके से खाने से मोटापा बढ़ता है.

    ब्रेड से भी कम कार्बोहाइड्रेट होता है आलू में
    आलू एक स्टार्ची सब्जी है, जिसमें कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट ज्यादा होता है, जबकि कैलोरी बहुत कम होती है. यह शरीर में मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है और वजन को कंट्रोल भी करता है. जो कि शरीर फिगर को शेप में लाने में मददगार होता है. यूएस डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर नेशनल न्यूट्रिएंट की मानें तो एक नॉर्मल ब्रेड की स्लाइस में 80 से ज्यादा कैलोरीज होती है जबकि एक उबले आलू में 70 कैलोरी से ज्यादा ऊर्जा नहीं मिल सकती.

    इस तरीके से खाने से बढ़ता है
    अब आपको पता तो चल गया है कि आलू में कैलोरी की मात्रा ज्यादा नहीं होती है जिससे इसे खाने से वजन नहीं बढ़ता है. जबकि अलग-अलग तरीके से खाने पर व्यक्ति मोटापा का शिकार हो जाता है और दोष सिर्फ और सिर्फ आलू को दिया जाता है. आलू का टेस्ट बढ़ाने के कारण उसे डीप फ्राई करके मसालों के साथ या फिर चीज़, शहद वगैरह के साथ डालकर खाने से कैलोरीज बढ़ जाती है और न्यूट्रिशन वैल्यू घट जाती है. ऐसा चीजें बार-बार खाने से शरीर में मोटाप घर करने लगता है.

    आलू कि किस डिश में कितनी कैलोरी
    आलू : 100 ग्राम में 75 कैलोरी
    फ्रेंच फ्राइज : 100 ग्राम में 345 कैलोरी
    पोटेटो वेजेस : 100 ग्राम में 320 कैलोरी
    चीजी फ्राइज - 100 ग्राम में 380 कैलोरी
    अमेरिकन जनरल ऑफ क्लीनिकल न्यूट्रिशन में प्रकाशित स्टडी रिपोर्ट्स की मानें तो जो लोग हफ्ते में 2 बार फ्राइड आलू खाते हैं, उन्हें मौत का रिस्क ज्यादा होता है.

    मोटापा बढ़ाने नहीं बल्कि कम कर सकता है आलू
    अगर कैलोरी पर गौर करें तो आलू खाकर भी मोटापा कम किया जा सकता है. जनरल मॉलिकुलर ऑफ न्यूट्रिशन एंड फूड रिसर्च में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, अगर आप मोटापा कम करना चाहते हैं तो फाइव डेज पोटैटो डाइट फॉलो करना चाहिए. ऐसा इसलिए क्योंकि आलू खाने के बाद काफी देर तक कुछ खाने का मन नहीं करता है, जिससे बार-बार खाने की आदत से बचा जा सकता है. आलू वाली यह डाइट फॉलो करने से ज्यादा कैलोरी इंटेक से बचा जा सकता है.

    ये भी हैं फायदे
    नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार, आलू में विटामिन-सी होने के कारण यह एंटी ऑक्सीडेंट का काम करता है. ये तत्व कोशिकाओं को नष्ट होने से न केवलल बचाता है बल्कि पाचन तंत्र, ब्लड प्रेशर और कैंसर से से भी शरीर को बचाता है.

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए