• X

    विरोधियों को भाषण से पानी पिलाने वाले अटल जी का ऐसा है खाना

    रुटीन चेकअप के लिए अटल बिहारी वाजपेयी को दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया है. जब भी अटल जी का जिक्र होता है. हमारे जेहन में उनकी कविताएं, उनके भाषण और उनके खान-पान की ही चीजें याद आती हैं. तो आइए हम आपको बताते हैं कि भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी को खाने में क्या-क्या पसंद था.

    बहादुरा के लड्डुओं से नहीं छूटा मोह
    अपने भाषण से लोगों के दिलों में राज करने वाले अटल बिहारी वाजपेयी खाने को लेकर शौकीन रहे हैं. ग्वालियर के बहादुरा के बूंदी के लड्डू हों या फिर दौलतगंज की मंगौड़ी, अटल जी के प्रिय व्ंयजनों में से हैं. हर दुकान से उनकी यादें जुड़ी हुई हैं. बहादुरा के लड्डू उन्हें इसलिए भी पसंद थे क्योंकि वे ग्वालियर शहर के शिंदे की छावनी में जन्मे और वहीं पले-बढ़े.

    पराठेवाली गली और मिठाइयों से गहरा नाता
    प्रधानमंत्री बनने के बाद भी अटल बिहारी वाजपेयी के मुंह से ग्वालियर के हलवाई के लड्डू, जलेबी और कचौड़ी का जायका नहीं गया. जब भी वे ग्वालियर जाते अपनी पसंदीदा चीजों को जरूर खाते. वहीं होली पर ठंडई और दिवाली पर मिठाई वे जरूर खाते. इसके अलावा अटल जी को चायनीज, खिचड़ी, खीर और मालपुआ उन्हें बहुत पसंद थे. वहीं दिल्ली में रहने के दौरान वे अक्सर पराठे वाली गली, सागर और चंगवा के यहां जाकर कुछ न कुछ जरूर खाते थे. मिठाई अटल जी के पकवानों की मेन्यू लिस्ट में हमेशा सर्वोपरि रही है. भांग के अटलजी शौकीन रहे हैं. उनके लिए उज्जैन से भांग आती थी.

    उज्जैन की ठंडई से लगाव
    ठंडई से तो उनका लगाव जगजाहिर है. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर भी उनके इस शौक को कई बार मीडिया से साझा कर चुके हैं. उन्होंने बताया कि जब वे मध्यप्रदेश में नेता प्रतिपक्ष थे तो इंदौर से उज्जैन कार से गए. उज्जैन में अटल जी कहने लगे, 'गोपाल मंदिर ले चलो. जब मैं उन्हें कार से ले जाने लगा तो कहा तांगे में ले चलो. तांगे में कोई देख न पाए.' वहां पहुंचने पर उन्होंने तीन गिलास भांग मंगाई. दो गिलास खुद पी और एक गिलास मुझे दी.'

    अब ऐसा है अटल जी का खान-पान
    खान-पान के बेहद शौकीन अटल जी तबीयत खराब होने के बाद खिचड़ी खाने लगे थे. जैसे-जैसे उनकी हालत गिरती गई उनका खान-पान भी कम होता गया. अब सिर्फ वे लिक्विड डाइट ही लेते हैं. सुबह चूरा किए हुए बिस्किट लिक्विड बनाकर दिए जाते हैं. दोपहर का खाना भी लिक्विड ही होता है. इसमें उन्हें जूस, दूध, चूरा की हुई ब्रेड, सब्जियों का सूप दिया जाता है. जबकि डिनर में भी तयशुदा लिक्विड डाइट उन्हें दी जाती है.

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए