• X

    बंगाल में पहला बैसाख पर होती है शाही दावत, बनती हैं ये चीजें

    बंगाल में बैसाख महीने के पहले दिन से (पोइला बोईशाख, PoilaBoishak) नए साल की शुरुआत होती है.  इसे शुभ नॉबोबोरशो (Bengali New Year) के तौर पर जाना जाता है जो बंगाली कैलेंडर का पहला दिन होता है.

    बंगाल अपने खान-पान के लिए यूं ही नहीं जाना जाता है. चाहे लंच हो या डिनर में थाली में कम से कम 5-6 डिशेस तो जरूर होती हैं. और इसके साथ दही, मिठाई भी परोसीजाती है. वहां एक ही चीज कई अलग-अलग तरीकों से बनाई जाती है. बंगाली खान-पान का स्वाद एक बार चखने के बाद, इसे खाने की इच्छा का बार-बार जागना लाज्मी है.


    तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि क्या-क्या होता है एक बंगाली थाली में शामिल.

    1. राइस: राइस यानी चावल बंगाल का मुख्य भोजन है. थाली में रोटी हो न हो कोई बात नहीं, पर चावल होता ही है. इसके बिना बंगालियों का भोजन अधूरा माना जाता है.

    2. फ्राई: अब आती है फ्राई की बारी जिसे बंगाल में भाजा कहते हैं. खाने के साथ कुछ न कुछ भाजा जरूर होना चाहिए जैसे बेगून (बैंगन) भाजा, आलू भाजा, परवल (पॉटोल) भाजा, कद्दू फ्राई, करेला फ्राई आदि.

    3. सूखी सब्जी: खाने में एक सूखी सब्जी भी बनाई जाती है जैसे मिक्स वेज, पत्तागोभी की सब्जी, साग, लौकी की सूखी सब्जी, आदि.

    4. दाल या गीली सब्जी: इसके बाद आती है दाल या फिर गीली यानी रसे वाली सब्जी की बारी. पंचफोरन के तड़के के साथ अमिया डालकर मूंगदाल, फूलगोभी आलू का रसा, पनीर का रसा खूब बनाया जाता है.

    5. मछली: मछली के बिना तो बंगाली खान-पान की कल्पना ही नहीं की जा सकती. मछली एक नहीं बल्कि अनेक तरीकों से बनाई जाती है. मछली फ्राई, माछेर झोल (ग्रेवी वाली फिश), माछेर चॉरचोरी (इसमें छोटी मछली को लौकी के साथ बनाया जाता है), लौकी या पत्तागोभी के साथ झिंगा मछली आदि. बंगाल में सब्जियों के साथ मिक्स कर मछली बहुत बनाई जाती है.


    6. चिकन/मटन:
    नॉन-वेज में चिकन, मटन खूब बनाया जाता है. बंगाल की खासियत के अनुसार इसमें आलू के बड़े-बड़े पीस जैसे एक आलू के सिर्फ 2 टुकड़े कर जरूर डाला जाता है.

    7. मिष्ठान: स्वीट डिश में मिष्टी दोई यानी मीठा दही और रसगुला रहता है.

    8. चटनी: टमाटर और खजूर की तीखी-मीठी चटनी बंगाल में बहुत फेमस है.


    थाली में साथ में नींबू का एक स्लाइस, हरी मिर्च और नमक जरूर रखा जाता है. कुछ यूं पूरी होती है एक बंगाली थाली.      
    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए