• X

    फिल्मों में आने से पहले फल बेचते थे, खोली थी सैंडविच की दुकान

    हिंदी फिल्म जगत के ऐसे कई सितारे हैं जिन्होंने फिल्मों में आने से पहले किसी रेस्टोरेंट या छोटी दुकानों पर खाना बनाने काम किया.
    ऐसी ही कुछ कहानी सदाबहार अभिनेता दिलीप कुमार की.
    पर क्या आप जानते हैं कि फिल्मों में आने से पहले यूसुफ खान (दिलीप कुमार) क्या करते थे? तो चलिए इसका जवाब हम आपको बताते हैं. सदाबहार अभिनेता दिलीप कुमार जिंदगी फिल्मों में आने से पहले काफी संघर्षमय थी. उनका परिवार मुंबई के क्रॉफोर्ड मार्केट में फल बेचने का काम किया करता था. उस वक्त उनकी किस्मत मानों थम सी गई थी. शुरुआत में वे फल की दुकान पर बैठते थे. इसके बाद 17 साल के होने पर यूसुफ ने पुणे के ब्रिटिश आर्मी क्लब 'विल्लिंगडन क्लब' में सैंडविच की एक दुकान शुरू की. 


    (pic- pinterest)

    दिलीप साहब बचपन से ही खाना बनाने और खाने के बेहद शौकीन रह चुके हैं. अंग्रेजी अखबार मिंट में छपी एक रिपोर्ट की मानें तो जहां फिल्म अभिनेता देव आनंद एक रोटी और सिर्फ एक कटोरी सलाद खाया करते थे वहीं दिलीप साब अपनी पसंदीदा डिश अवधी स्टाइल कबाब और बिरयानी बड़े चाव से खाते थे. दिलीप जी इंग्लिश स्टाइल में सैंडविच बनाते थे और धीरे-धीरे उनका स्टॉल बहुत ही मशहूर भी हुआ. जो महिलाएं वहां अक्सर सैंडविच खाने आया करती थीं, वे दिलीप साहब को स्पैनिश में 'chico', a 'lad' यानी यंग बॉय कहकर पुकारती थीं. इससे ऐसा हुआ कि अभी तक सायरा बानो खुद भी कभी-कभार दिलीप कुमार को चिको नाम से पुकार लेती हैं.

     

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए