• X

    रेस्टोरेंट या होटल में घुसते ही पता चल जाएगी खाने की क्वॉलिटी

    होटल या रेस्टोरेंट्स में खाना खाने वालों के लिए खुशखबरी है. अब लोगों को होटल या रेस्टोरेंट्स में घुसते ही पता चल जाएगा कि खाना टेस्टी होगा या नहीं. या फिर यहां खाना खाया जा सकता है या नहीं. इसके लिए उस होटल या रेस्टोरेंट्स को स्टार रेटिंग दी जाएगी. यह रेटिंग खाने के टेस्ट और साफ-सफाई के आधार पर दी जाएगी.

    दरअसल, फूड सेफ्टी एंड स्टैंडडर्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) ने देशभर के 20 शहरों में खाने की क्वॉलिटी और सर्विस को बढ़ाने के लिए होटल-रेस्टोरेंट्स के लिए एक तरह का ऑडिट सिस्टम लागू करने की तैयारी की है. इसके माध्यम से होटल के खाने की क्वॉलिटी और सर्विस की जांच की जाएगी और उसे ग्राहकों के लिए ऑनलाइन कर दिया जाएगा. यह व्यवस्था सबसे पहले मध्यप्रदेश के इंदौर शहर से शुरू हो रही है.

    कितनी रेटिंग दी जाएगी?
    FSSAI ने इसके लिए एक एक थर्ड पार्टी ऑडिट के लिए कंपनी को भी नियुक्त किया है. एफएसएसएआई का मानना है कि जिस तरह से देशभर के होटलों को उनकी सुविधाओं के हिसाब से मिनिस्ट्री ऑफ टूरिज्म से स्टार रेटिंग मिली हुई है, ठीक उसी प्रकार वहां पर लोगों को परोसे जाने वाले खाने की क्वॉलिटी के आधार पर भी 1 से 5 तक की रेटिंग दी जाए. इसमें बड़े होटलों से लेकर छोटे रेस्टोरेंट तक को शामिल किया जा रहा है. ऐसे में लोग जब होटल या किसी रेस्टोरेंट में खाना खाने जाएंगे तो वहां के खाने और सर्विस की क्वॉलिटी की रेटिंग को भी देख सकेंगे. उसके आधार पर वह वहां खाना खाने या न खाने का निर्णय कर सकेंगे.

    स्वास्थ्य मंत्रालय का भी सपोर्ट
    FSSAI के इस कदम को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी सपोर्ट किया है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय इन सभी मापदंडों को केंद्रित करते हुए संबंधित होटल या रेस्टोरेंट को रेटिंग का सर्टिफिकेट जारी करेगा. इन रेटिंग्स के आधार पर यह तय हो जाएगा कि संबंधित होटल के खाने की क्वॉलिटी कैसी है?

    किन मानकों के आधार पर काम करेगी ऑडिट कंपनी?
    FSSAI के लिए ऑडिट करने वाली कई मानकों के आधार पर अपनी रिपोर्ट बनाएगी. जिसके आधार होटल या रेस्टोरेंट्स को रेटिंग दी जाएगी.

    - रेस्टोरेंट व होटल में मिलने की शुद्धता या हाईजीन के आधार पर.
    - जिस जगह खाना बन रहा है यानी किचन, उसके आसपास कितनी सफाई है?
    - ग्राहकों को पीने के लिए दिए जाने वाला पानी और खाना बनाने में उपयोग किए जाने वाले पानी की क्वॉलिटी कैसी है?
    - खाना बनाने के लिए कच्ची सामग्री की क्वॉलिटी कैसी है?
    - खाना ताजा है या बासी, यह भी रेटिंग का आधार होगा. खाना ऑर्डर के बाद बनाया गया है या पहले से ही तैयार रखा था. जिसे बाद में गर्म करके दे दिया दिया गया.
    - बचे हुए खाने को रेस्टोरेंट्स या होटल क्या करते हैं?
    - बैठने वाले टेबल के पास साफ-सफाई और खाना परोसने वाले बर्तनों की सफाई कैसे होती है?

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए