• X

    जामुन के बारे में वो सब कुछ जो आपको जानना चाहिए

    गर्मी के साथ जामुन का भी आगमन हो जाता है. यह कमाल का मौसमी फल है. स्वाद में खट्टे-मीठे इस फल के इतने गुण हैं कि क्या कहने. यह अप्रैल से शुरू होकर जुलाई तक रहता है, लेकिन कुछ हिस्सों में सितंबर तक भी मिलता है. जगहों के हिसाब से इनके आकार और स्वाद में थोड़ा अलग होता है.

    स्वाद के साथ ही जामुन सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद माने जाते हैं. ऐसा कहा जाता है हर व्यक्ति को कम से कम 5-10 जामुन सीजन में जरूर खाने चाहिए. इनके सेवन से जहां पेट साफ होता है वहीं कहीं शारीरिक फायदे भी होते हैं. वैसे ताजे जामुन ही खाने चाहिए लेकिन अगर मार्केट से लाते हैं तो इन्हें खरीदते वक्त कुछ चीजें जान लेंगे तो ये खराब नहीं निकलेंगे और अगर इन्हें स्टोर करने पर भी ये कुछ दिनों तक सही रह सकते हैं.

    जामुन खरीदते वक्त किन चीजों का ध्यान रखना चाहिए?
    - जामुन खरीदने के पहले एक-दो जामुन खाकर जरूर चेक करें. इससे इनके स्वाद के साथ ही ताजगी का पता चल जाएगा.

    - कुछ दुकानदार इस पर तेल लगाकर बेचते हैं ताकि यह एकदम साफ दिखे. ऐसा जामुन खाने से आपको कसैला स्वाद महसूस हो सकता है. और इससे पेट भी खराब हो सकता है.

    - थोड़ा ठोस जामुन ही खरीदें. जामुन अगर सॉफ्ट होंगे तो जल्दी खराब हो जाएंगे.

    कैसे ज्यादा दिनों तक स्टोर किया जा सकता है?
    - जामुन स्टोर करने से सबसे बढ़िया और देसी तरीका है इन्हें पानी में डालकर रखना.

    - इसके अलावा जामुन को फ्रिज में रखा जा सकता है.

    - फ्रिज से बाहर यह मुश्किल से 1 से दो दिन तक ही सही रहते हैं.

    - फ्रिज में आप इसे किसी बर्तन में निकालकर या किसी प्लास्टिक में बांधकर रख सकते हैं.

    - फ्रिज में रखने से पहले यह चेक कर लें कि कोई जामुन खराब न हो. क्योंकि एक खराब जामुन पूरे जामुन में सड़न पैदा कर सकता है.

    क्या हैं इसे खाने के फायदे?
    - जामुन में मौजूद आयरन एनीमिया की कमी दूर करता है.

    - जामुन का सेवन लीवर की समस्या को भी दूर करता है.

    - जामुन की छाल का काढ़ा पीने से पेट की समस्या में भी राहत दिलाता है.

    - जामुन त्वचा में निखार लाने में बहुत लाभकारी है. इसके खाने से चेहरे की रंगत बढ़ती है.

    - डायबिटीज में तो जामुन खाने की सलाह भी दी जाती है. इसका नियमित सेवन बहुत फायदेमंद होता है.

    - जामुन की गुठली में थोड़ा सा नमक मिलाकर इसके चूर्ण को दांतों पर मलने से दांतों के दर्द की शिकायत दूर होती है.

    - जामुन की गुठली के चूर्ण को पानी के साथ मिक्स कर पेस्ट बनाकर घाव पर लगाने से बहुत राहत मिलती है.

     

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए