• X

    माघ गणेश जयंती के दिन ऐसे करें गणेश पूजन, बनाएं ये प्रसाद

    गणेश चतुर्थी यानी भगवान गणेश का जन्‍मोत्‍सव. गणेश जयंती का पर्व बहुत ही धूम-धाम से मनाया जाता है. कई जगह भाद्रपद में होने वाली गणेश चतुर्थी मनाई जाती है तो कई जगह माघ महीने की. इस दिन भगवान गणेश का मनपसंद भोग बनाया जाता है.

    महाराष्‍ट्र में माघ महीने की गणेश जयंती के दिन ही भगवान गणेश का जन्मोत्सव मनाया जाता है. इसे माघ शुक्‍ल चतुर्थी, तिलकुंड चतुर्थी और वरद चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है. 8 फरवरी की सुबह 10 बजकर 17 मिनट के शुरु हो चुकी इस तिथि के समाप्त होने का समय 12 बजकर 25 मिनट का है. मान्यताओं के अनुसार इस दिन व्रत करने से भगवान गणेश भक्‍तों के सभी संकट दूर करते हैं.


    ये चढ़ाया जाता है प्रसाद :
    - गणेश जयंती के दिन हल्‍दी या सिंदूर की गणेश प्रतिमा बनाकर पूजा की जाती है.
    - गणपति को तिल के लड्डुओं का भोग लगाया जाता है.
    - गणेश जी का प्रिय भोग मोदक तो बनाया ही जाता है.
    - मोदक में नारियल, जायफल और केसर की स्ट्फिंग भरी जाती है.
    - इसके बाद हर प्रसाद को सब में बांटा जाता है.
    - इस दिन पानी में तिल मिलाकर नहाने की परंपरा भी है.
    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए