• X

    नहीं कर पाए हैं श्राद्ध तो अमावस्या के दिन करें इन चीजों का दान

    आज पितृ पक्ष का आखिरी दिन है. जिन लोगों को श्राद्ध की तिथि नहीं पता होती है वे इस दिन पितृ तर्पण कर सकते हैं, इसलिए इसे सर्वपितृ अमावस्या का दिन या पितृपक्ष अमावस्या भी कहा जाता है.

    इस दिन पितरों के नाम लड्डू, इमरती, पूरियां, फल, मिठाइयां, अन्न आदि का दान किया जाता है. श्राद्ध में चना, मसूर, उड़द, सत्तू, मूली, खीरा, बासी खाना, फल या कोई भी दूसरे अन्न का उपयोग नहीं करना चाहिए.

    पितृ पक्ष के अंतिम दिन ब्राह्मणों और गरीबों को, किसी जरूरतमंद को भोजन कराना शुभ माना जाता है और पितृ दोष से मुक्ति मिलती है. ऐसा करने श्राद्ध पूरा माना जाता है.

    पितृ पक्ष के अंतिम दिन आप अन्न, दाल, सब्जियां आदि दान कर श्राद्ध पूरा कर सकते हैं.

    कौओं को खिलाना भी पितरों को खिलाना ही कहा जाता है. पितरों की पसंदीदा चीजें बनाकर कौओं के लिए रखी जाती हैं. कहा जाता है कि अगर कौओं ने खा लिया तो मानो पितरों ने खा लिया.

    इसके अलावा शास्त्रों में यह भी कहा गया है कि जो आमान्न दान भी नहीं दे पाते हैं वो गाय को साग खिलाकर अपने पितरों का श्राद्ध पूरा कर सकते हैं.

     

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए