• X

    सूर्यग्रहण में भी कुछ ऐसे दूषित नहीं होगा भोजन

    आज यानी 21 जून को सूर्यग्रहण है. यह ग्रहण सुबह 9 बजकर 15 मिनट से शुरू होकर दोपहर 3 बजकर 4 मिनट पर खत्म होगा.

    ज्योतिषों मान्यताओं के अनुसार इस दौरान खाना बनाना और भोजन करने से परहेज रखना चाहिए. आइए हम आपको बताते हैं कि ऐसा क्यों है और इससे बचने के लिए कौन से उपाय किए जाने चाहिए.

    ऐसा माना जाता है कि ग्रहण के समय भोजन नहीं करना चाहिए. ग्रहणकाल में बने भोजन और जल में विशेष तरह की नकारात्मक ऊर्जा आ जाती है जिससे भोजन करने से आप बीमारियों के शिकार हो सकते हैं. यही कारण है कि ग्रहणकाल में भोजन करना निषेध माना गया है. ग्रहणकाल में घर में रखा हुआ खाना या पेय पदार्थ पुनः उपयोग करने लायक नहीं होता है.

    ग्रहण या सूतक से पहले ही यदि खाने-पीने की चीजों में जैसे दूध, दही, चटनी, आचार आदि में कुश या तुलसी के पत्ते रख दिए जाएं तो यह दूषित होने से बच जाता है. आप पुनः इसे उपयोग में ला सकते हैं. इनके अलावा घर में गोबर की लिपाई करने से और गोबर का प्रयोग करने से ग्रहण के नकारात्मक तरंगों से बचा जा सकता है. बीमारों, वृद्धों और बच्चों पर ग्रहण के नियम लागू नहीं होते हैं.
    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए