• X

    त्रिपुरा में राइस बीयर से लेकर मुई बोरोक हैं फेमस

    हाल ही में त्रिपुरा में एनडीए ने सरकार बनाई है. जिस वजह से यह राज्य सुर्खियों में रहा है. त्रिपुरा देश का एक सुंदर पर्यटक स्थल है. यहां की संस्कृति और खान-पान अपने आप में देश के दूसरों राज्यों से अलग है. त्रिपुरा का खाना थोड़ा तीखा और मसालेदार होने के साथ ही चीन और बंग्लादेश के पकवानों से मिलता जुलता है. यहां की ज्यादातर आबादी मांस-मछली पर निर्भर है. इन्हीं चीजों से बना खाना उनका पसंदीदा भोजन भी है. बांगुई चावल और मछली, बांस की मारियां, स्थानीय जड़ी बूटियों, और मांस के रोस्ट्स राज्य के भीतर और बाहर बेहद लोकप्रिय हैं. आइए जानते हैं इन्ही पकवानों के बारे में जो हैं त्रिपुरा की शान.
    मुई बोरोक
    मुई बोरोक त्रिपुरा का पारंपरिक पकवान है. इसे त्रिपुरा के लोग काफी पसंद करते हैं, यह एक तरह कि ऐसी चीज है जिसे ज्यादातर खाने में मिलाया जाता है. इसे बेरमा कहा जाता है. बेरमा को सूखी मछली से बनाया जाता है और इस बनाने में तेल का इस्तेमाल नहीं किया जाता है. इसका स्वाद नमकीन और चटपटा होता है.
    चावल, सब्जी और मटन
    चूंकि त्रिपुरा बांग्लादेश की सीमा से तीन तरफ से लगा हुआ है. इसलिए यहां खाना कुछ-कुछ वहां से भी मिलता-जुलता है. यहां काफी तादात में नॉन ट्राइबल बंगाली हैं जोकि चावल, मछली और सब्जियों पर आश्रित रहते हैं. मांस यहां के लोगों के मुख्य भोज्य पदार्थों में शामिल है. यहां के लोग मटन, पोर्क और चिकन खाना ज्यादा पसंद करते हैं. लेकिन ऐसा नहीं है कि त्रिपुरा में सिर्फ बांग्लादेश का खाना ही फेमस है. यहां पर चाइनीज फूड भी पसंद किया जाता है.
    इसके अलाव यहां का पेय काफी फेमस है. अगर आप बीयर पीने के शौकीन हैं तो आपको एक बार राइस बीयर जरूर पीनी चाहिए. यह त्रिपुरा का ट्रडिशनल पेय है. इसे चावल से तैयार किया जाता है. इसे चौक या चुवारक कहा जाता है. इसे बनाने के लिए चावल को कुछ दिनों तक पानी में भिगोकर रख दिया जाता है. फिर इसके बाद छानकर सर्व किया जाता है. इसे मामी राइस, पाइनएपल और कटहल के मिश्रण से भी तैयार किया जाता है. जानकार इसे दुनियाभर का सबसे सुरक्षित एल्कहोल मानते हैं.
     चटनी में फेमस है मॉसडेंग सेरमा
    जिस शेजवान सॉस को हम मजे से खाते हैं और सोचते हैं कि यह बाहर से आयतित फूड है तो ऐसा नहीं त्रिपुरा में सदियों से ऐसी चटनी बनती आई है. इसे भी बेरमा, लाल मिर्च, टमाटर और लहसुन से तैयार किया जाता है. इसी तरह से यहां बांगुई भी खासा पसंद किया जाता है. यहां के लोग इसे सही तरीके से पकाने में घंटों लगा देते हैं. ताकि खाने में मनचाही खुशबू आ सके. बंगाल की तरह ही त्रिपुरा में भी पंच फोरन मसाले का खूब इस्तेमाल होता है. त्रिपुरा के लोग बैंगन, कद्दू, आलू की सब्जी में पंचफोरन मसाला डालकर पकाते हैं. जिसे तरकारी कहा जाता है. पंचफोरन तरकारी का मजा पराठा और पूड़ियों के साथ गजब का लगता है.
    व्हान मॉसडेंग
    नॉर्थ ईस्ट में मोमोज का बहुत क्रेज है, लेकिन त्रिपुरा में व्हान मॉसडेंग चर्चित पकवानों में से है. इसे पोर्क, प्याज, धनियापत्ती और हरी मिर्च का मसाला भरकर भाप में पकाया जाता है.
    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए