• X

    जानिए कैसे बनता है मखाना और क्या हैं खाने के फायदे?

    अकसर मखाने का प्रयोग पूजा-पाठ में किया जाता है. इसका प्रयोग व्रत-त्योहार में भी होता है, लेकिन क्या आप जानते हैं मखाने की खेती कैसे की जाती है. आइए जानते ही इसकी खेती का तरीका और इसके अनेकों फायदे.

    विधि

    मखाना जिसे लोटस सीड, फोक्स नट, प्रिकली लिली आदि के नाम से जाना जाता है. देश में 80 फीसदी मखाना की खेती बिहार के मिथिलांचल क्षेत्र में होती है. मखाने को तालाब, झील जैसे शांत पानी पर उगाया जाता है. पानी में खेती होने की वजह से इसमें कोई केमिकल फर्टीलाइजर का उपयोग नहीं होता है, इसलिए यह पूरी तरह से ऑर्गेनिक फूड है.
    कब होती है इसकी खेती?
    मखाना के बीज दिसंबर से जनवरी के बीच में बोए जाते हैं. अप्रैल के महीने में पौधों में फूल उगने लगते हैं और जुलाई के महीने में फूल पानी की सतह पर तैरने लगते हैं. मखाने का फल काफी कांटेदार होते हैं इसलिए बाद में यह पानी के नीचे जाकर बैठ जाते हैं. लगभग 1 से 2 महीनों के अंदर सारे कांटे गल जाते हैं इसके बाद किसान सितंबर से अक्टूबर के महीने में मखाने के फूलों को इकट्ठा कर लेते हैं. इसके बाद इसके बीजों को तेज धूप में सुखाया जाता है. इतना ही नहीं, इनके बीजों पर ग्रेडिंग भी इनके साइज के अनुसार ही की जाती है. मखाना की खेती भारत के अलावा चीन, रूस, जापान और कोरिया में भी होती है. इतना ही नहीं, मणिपुर में इसके जड़कंद और डंठल की सब्जी भी बनाई जाती है.

    किस इस्तेमाल में आता है मखाना?
    आमतौर पर मखाने का उपयोग पूजा-पाठ और व्रत के दौरान होता है, लेकिन कुछ लोग इसे अपनी डेली डाइट का हिस्सा बना लेते हैं. दरअसल, मखाना औषधीय गुणों से भरपूर है. इसमें प्रोटीन, एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन, कैल्शियम, मिनरल्स और कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं जो शरीर के लिए काफी फायदेमंद होते हैं.

    मखाना खाने के फायदे
    - मखाने का सेवन करने से डायबिटीज से निजात पा सकते हैं.
    - दिल से जुड़ी बीमारियों के लिए मखाना काफी फायदेमंद होता है.
    - मखाने का सेवन करने से पाचन क्रिया भी ठीक रहती है.
    - मखाने का नियमित सेवन दिमागी तनाव को कम करता है.
    - मखाने का रोजाना सेवन जोड़ों के दर्द को दूर करने में मदद करता है.
    - इसके सेवन से किडनी भी मजबूत होती है.
    - इसमें मीठे की मात्रा बहुत ही कम होती है इसलिए यह वजन कम करने में भी मदद करता है.
    - मखाने के सेवन से ब्लड प्रेशर का लेवल नियंत्रण में रहता है.
    - मखाने में एंटी-एजिंग तत्व होते हैं जो त्वचा को जवान रखने में काफी मदद करते हैं.

    क्‍या ये रेसिपी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें
    टैग्स

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए