• X

    इन बर्तनों में खाना बनाना, शरीर में जहर घोलने जैसा है!

    खाना बनाते समय आप साफ-सफाई और पोषण पर ज्यादा ध्यान देते हैं, ताकि उस खाने से परिवार के लोगों की सेहत और बेहतर हो. सेहत के लिए सिर्फ आपके तौर तरीकों का ही महत्व नहीं रहता, बल्कि उन बर्तनों का भी विशेष महत्व होता है, जिनमें खाना पकाया एवं खाया जाता है. तो जानिए किस खाने को किस बर्तन में बनाने से मिलेगा ज्यादा पोषण.

    टिप्‍स

    - पीतल के बर्तनों में खाना पकाना एवं खाना सामान्यत: पुराने समय में ज्यादा किया जाता था. यह नमक और अम्ल के साथ प्रतिक्रिया करते हैं इसलिए खट्टी चीजों का या अधिक नमक वाली चीजों को इसमें पकाना या खाना नहीं चाहिए अन्यथा फूड पॉइजनिंग हो सकती है.

    - तांबे के बर्तनों का उपयोग भी पुराने जमाने से ही किया जाता रहा है और यह भी पीतल की तल ही अम्ल और नमक के साथ प्रतिक्रिया करती है. कई बार पकाए जा रहे भोजन में मौजूद ऑर्गे‍निक एसिड बर्तनों के साथ प्रतिक्रिया कर ज्यादा कॉपर पैदा कर सकते हैं, जो नुकसानदायक हो सकता है.
    (ऐसे करें पुराने बर्तनों को एकदम नया और चमकदार)

    - एल्युमीनियम के बर्तनों का इस्तेमाल हर घर में होता ही है. ज्यादा गर्मी मिलने पर एल्युमीनियम के अणु जल्दी सक्रिय होते हैं और एल्युमीनियम जल्दी गर्म होता है. इस धातु के बर्तन में खाना पकाना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है. यह भी अम्ल के साथ बहुत जल्दी रासायनिक क्रिया करते हैं. इसलिए इसमें खटाई या अम्लीय सब्जियों को नहीं बनाना चाहिए.

    (बर्तन चमकाने वाला स्पंज, आपको बीमार भी बना सकता है)

    - स्टेनलेस स्टील का प्रयोग वर्तमान में काफी चलन में है यह एक मिश्र‍ित धातु है जो लोहे में कार्बन, क्रोमियम और निकल मिलाकर बनाई जाती है. इसमें खाना पकाने या बनाने में सेहत को कोई नुकसान नहीं होता इन बर्तनों का तापमान बहुल जल्दी बढ़ता है.

    - भोजन पकाने और खाने के लिए लोहे के बर्तनों का उपयोग हर तरह से फायदेमंद होता है. ऐसे बर्तनों में पकाए गए भोजन में आयरन की मात्रा अपने आप बढ़ जाती है और आपको उसका भरपूर पोषण मिलता है. सामान्य तौर पर सभी को आयरन की आवश्यकता होता है और महिलाओं को खास तौर यह जरूरी है.

    (बर्तन का बाहरी तला भी हमेशा चमकेगा)

    - नॉनस्ट‍िक का मतलब होता है, न चिपकने वाला. अर्थात् ऐसे बर्तन जिनमें खाना चिपकता नहीं है और पकाने के लिए अधिक तेल या घी की आवश्यकता भी नहीं होती, लेकिन इन बर्तनों को अत्यधिक गर्म करने या फिर खरोंच लगने पर रसायन उत्सर्जित होते हैं जो शरीर के लिए हानिकारक हो सकते है.

    (खतरनाक है नॉन स्टिक बर्तनों में खाना पकाना)

     

    क्या ये टिप्स आपके लिए उपयोगी हैं?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें
    टैग्स

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए