• X

    सर्दियों में सूप पीने का सही समय कब होता है?

    ठंड के दिनों में होने वाले सर्दी-जुकाम, वायरल जैसी बीमारियों से बचाने के लिए गर्मागर्म सूप काफी फायदेमंद माना जाता है. जहां यह सर्द मौसम में गर्मी देता है वहीं इससे शरीर को जरूरी पोषक तत्व भी मिलते हैं.

    सूप पीना ज्यादातर लोग पसंद करते हैं, लेकिन अधिकतर लोगों को यह नहीं पता होता है कि सूप पीने का सही समय क्या होता है. वहीं बच्चों से लेकर बड़ों तक सूप पीने की एक मात्रा निर्धारित है. इस मात्रा ज्यादा सूप पीना उनके नुकसानदायक भी हो सकता है. वहीं इससे भी ज्यादा जरूरी बात यह है कि सूप कब पीना चाहिए?

    अंडा वेज है या नॉनवेज? जवाब वैज्ञानिकों ने ढूंढ़ निकाला

    सूप की हैं ढेरों वैरायटी
    आमतौर पर सब्जियों, दालों, नॉनवेज और हर्ब्स से सूप बनते हैं. कुछ सूप को मिक्स करके भी बनाया जाता है जैसे सूप की वेज ग्रेवी बनाकर इसमें बेक्ड या स्टीम चिकन के पीस डाल दिए जाते हैं. इससे सूप का स्वाद बढ़ने के साथ ही इसकी पौष्टिकता भी बढ़ जाती है.
    क्या फल खाने के बाद पानी पीना चाहिए या नहीं?

    किस व्यक्ति को कितना सूप पीना चाहिए?
    सूप पीना हर उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है, लेकिन बीमार व्यक्तियों और बुजुर्गों के लिए इससे बढ़िया दवा और कोई नहीं हो सकती. सूप को चबाना नहीं पड़ता है और यह सुपाच्य भी माना जाता है. इसलिए सूप से उनके शरीर के पौष्टिक तत्वों की भरपाई आसानी से हो सकती है. वहीं सब्जी और दाल न खाने वालों बच्चों के लिए भी ऐसा सूप एक आदर्श और पौष्टिक पेय बन जाता है. सर्द मौसम में पांच साल से छोटे बच्चों को रोजाना 50 मिली सूप पिलाना बेहतर माना जाता है.

    क्या प्रेग्नेंसी के दौरान कटहल खाना चाहिए?

    सुबह, दोपहर या शाम, कब पीना चाहिए सूप?
    डाइट एक्सपर्ट की मानें तो खाली पेट सूप पीने से यह जल्दी अवशोषित हो जाता है. इसलिए सूप खाना खाने से पहले पिया जाता है. सूप पीने का सबसे बढ़िया समय शाम का ब्रंच टाइम यानी 6 से 7 बजे के बीच का माना जाता है. कहने का मतलब यह ऐसा है कि सूप डिनर से डेढ़ घंटे पहले पिया जाना चाहिए. क्योंकि सर्दियों में शाम को शरीर को गर्माहट देने के लिए गर्म और सुपाच्य चीजें खानी-पीनी चाहिए.

     

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए