• X

    पाना चाहते हैं सुरीली आवाज तो इससे बेहतर और कुछ नहीं

    मुलेठी से आवाज के मधुर बनने की बात तो आपने सुनी ही होगी पर क्या आप जानते हैं कि इसमें कई और गुण भी छिपे हैं. जी हां, मुलेठी में कई ऐसे गुण हैं, जो शायद आप नहीं जानते होंगे. मुलेठी एक ऐसी फायदेमंद वनस्पति है जिसका उपयोग कई रोगों के इलाज में होता है.

    इसका पौधा करीब 6 फुट तक लंबा होता है. यह बाहर से भूरी, पर अंदर से पीली नजर आती है. एक बार जमीन से उखाड़ लेने के बाद करीब 2 साल तक दवा के तौर पर इसका इस्तेमाल किया जा सकता है. आयुर्वेद के अनुसार मुलेठी अपने नायाब गुणों के कारण तीनों दोषों- वात, कफ और पित्त को शांत करती है.आइए जानते हैं इसके बाकी फायदों के बारे में.

    - स्वाद में मीठी होने की वजह से इसका यह नाम 'यष्ट‍िमधु' भी है.
    - आवाज को मधुर और सुरीली बनाती है मुलेठी से.
    - दूध के साथ मुलेठी खाने से शरीर को ताकत मिलती है.
    - घी या शहद के साथ मिलाकर मुलेठी का सेवन हार्ट से जुड़ी समस्याओं को पैदा नहीं होने देता है.
    - मुंह में छाले हो जाने पर मुलेठी चूसना और इसके पानी से कुल्ला करने या इसे पीने से आराम मिलता है.
    - मुलेठी आंखों की रोश्नी बढ़ाने में भी लाभकारी है.
    - स्किन जल जाने पर मुलेठी के चूर्ण और मक्खन का लेप लगाने से ठंडक मिलती है.
    - खाने के अलावा मुलेठी घिसकर चेहरे पर लगाने से दाग और मुंहासे भी दूर होते हैं.
    - मुलेठी खून को भी शुद्ध करती है.
    - पेट के अल्सर में भी मुलेठी का सेवन फायदेमंद है.
    - मुलेठी को काली-मिर्च के साथ खाने से कफ पतला होता है.

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?
    अपने दोस्‍त के साथ साझा करें

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए