• X

    कांच, प्लास्टिक या तांबे, किस बर्तन में पानी पीना सही है?

    पानी सेहत के लिए सबसे ज्यादा जरूरी चीज है. हमारे शरीर में सबसे ज्यादा मात्रा पानी की ही है. पानी तो सब पीते हैं, कोई कांच की गिलास में कोई स्टील और कोई प्लास्टिक के बर्तन इस्तेमाल करते हैं. पानी पीने से प्यास तो बुझ जाती है पर क्या यह पानी आपको सही फायदा पहुंचाता है? सही फायदे के लिए किस बर्तन में पानी पीना चाहिए? इन सवालों का जवाब यहां मिलेगा.

    जिन प्लास्टिक की बोतलों में कोल्ड ड्रिंक और मिनरल वॉटर बिकता है, वह polyethylene terephthalate (PET) से बनी होती हैं. ज्यादा तापमान होने पर या पानी के गर्म होते ही बोतल से कई खतरनाक हानिकारक तत्व निकलते हैं जो पानी के साथ पेट में पहुंच जाते हैं और फिर शरीर को नुकसान पहुंचाते हैं. न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इस पर शोध भी किया. जिसमें यह पाया गया कि प्लास्टिक की बोतलों में जो कैमिकल पाया जाता है वो मानव शरीर में पाए जाने हॉर्मोनल सिस्टम के लिए बहुत खतरनाक होता है.
    खाना खाने के कितनी देर बात चाय पी सकते हैं?

    स्टेनलेस स्टील, एल्यूमीनियम या कांच की बोतलें ही पानी को स्टोर करने के लिए सुरक्षित मानी जाती है. कांच में ज्यादा गर्म पानी डालकर भी पीना अच्छा नहीं है. वहीं सबसे ज्यादा लाभ चाहिए तो तांबे के बर्तन में पानी रखें और उसे पीएं.

    पहले के समय में इसीलिए लोग तांबे के जग या लोटे में पानी पीते थे और इसी वजह से उनके शरीर से हर तरह की बीमारियां कोसों दूर रहती थी. तांबे में मौजूद तत्व मानव शरीर को अंदर से सही रखता है.

    आयुर्वेद के अनुसार रात को तांबे के पात्र में रखा जल तांबे के गुणों से युक्त होकर लीवर को स्वस्थ रखता है. आधुनिक चिकित्सा के अनुसार यह पानी पेट की बीमारियों से लड़ने में सहायक होता है.

    जानिए सुबह उठते ही क्यों पीना चाहिए पानी ?

    तांबे के बर्तन में पानी पीने के ऐसे हैं फायदे

    - यह दिल को स्वस्थ बनाए रखकर ब्लड प्रेशर को नियंत्रित कर बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है. इसके अलावा यह हार्ट अटैक के खतरे को भी कम करता है. यह वात, पित्त और कफ की शिकायत को दूर करने में मदद करता है.

    - तांबे का पानी पाचनतंत्र को मजबूत कर बेहतर पाचन में सहायता करता है. रात के वक्त तांबे के बर्तन में पानी रखकर सुबह पीने से पाचन क्रिया दुरुस्त होती है. इसके अलावा यह अतिरिक्त वसा को कम करने में भी बेहद मदददगार साबित होता है.

    - तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से त्वचा पर किसी प्रकार की समस्याएं नहीं होती. यह फोड़े, फुंसी, मुंहासे और त्वचा संबंधी अन्य रोगों को पनपने नहीं देता जिससे आपकी त्वचा साफ और चमकदार दिखाई देती है.

    छीलकर या बिना छीले, जानिए चाय में अदरक कैसे डालना है सही

    - एनीमिया की समस्या में भी इस बर्तन में रखा पानी पीने से लाभ मिलता है. यह खाने से आयरन को आसानी से सोख लेता है जो एनीमिया से निपटने के लिए बेहद जरूरी है.

    - पेट की सभी समस्याओं के लिए तांबे का पानी बेहद फायदेमंद होता है. प्रतिदिन इसका उपयोग करने से पेट दर्द, गैस, एसिडिटी और कब्ज जैसी परेशानियों से निजात मिल सकती है.

    - अमेरिकन कैंसर सोसायटी के अनुसार तांबे कैंसर की शुरुआत को रोकने में मदद करता है और इसमें कैंसर विरोधी तत्व मौजूद होते है.

    एक व्यक्ति को एक दिन में कितने गिलास पानी पीना चाहिए?

    - तांबे में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं जो शरीर में दर्द, ऐंठन और सूजन की समस्या नहीं होने देते. ऑर्थराइटिस की समस्या से निपटने में भी तांबे का पानी फायदेमंद होता है.

    - तांबे के बर्तन में रखा पानी पूरी तरह से शुद्ध माना जाता है. यह सभी डायरिया, पीलिया, डिसेंट्री और अन्य प्रकार की बीमारियों को पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म कर देता हैं.

    - तांबा यानी कॉपर, सीधे तौर पर आपके शरीर में कॉपर की कमी को पूरा करता है और बीमारी पैदा करने वाले बैक्टीरिया से सुरक्षा देता है.

    क्‍या ये स्टोरी आपको पसंद आई?

Advertisment

ज़ायके का सबसे बड़ा अड्डा

पकवान गली में आपका स्‍वागत है!

आप हर वक्‍त खाने-खिलाने का ढूंढते हैं बहाना तो ये है आपका परमानेंट ठिकाना. कुछ खाना है, कुछ बनाना है और सबको दिखाना भी है, लेकिन अभी तक आपके हुनर और शौक को नहीं मिल पाया है कोई मुफीद पता तो आपकी मंजिल का नाम है पकवान गली.


ज़ायका ही आपकी जिंदगी है तो हमसे साझा करें अपनी रेसिपी, कुकिंग टिप्‍स, किसी रेस्‍टोरेंट या रोड साइड ढाबे का रिव्‍यू.

रेसिपी फाइंडर

या
कुछ मीठा हो जाए